Sunday, August 21, 2016

रिश्ते (भाग-२)

रिश्तों को भी खाद - पानी 
और ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है
फूलने- फलने के लिए, 
अन्यथा गुब्बारे के हवा की तरह 
धीरे- धीरे रिश्तों की भी हवा निकल जाती है

कुछ रिश्ते वृक्षों की तरह 
शनैः-शनैः सूखते हैं,
कुछ पौधों की तरह अचानक 
मृतप्राय हो जाते हैं 

रिश्ते दादी- माँ के घुटने के 
दर्द की तरह भी होते हैं 
जो पीड़ा देते हैं फिर भी 
उन्हें झेलने की 
उनके साथ जीने की आदत 
पड़ ही जाती है

अब वास्तव में ये रिश्ते मुझे 
आतंकित करते हैं 

सुना है जूठा खाने-खिलाने से 
प्रेम बढ़ता है
दादी माँ ने बचपन में 
मुझे बहुत जूठा खिलाया था
किन्तु मैं कह सकता हूँ 
कि प्यार बढ़ाने के लिए 
बस प्यार होना चाहिए। 
कृतिम प्रेम अधिक टिकाऊ नहीं होता। 

बालमन शब्दों के मायाजाल को 
नहीं समझता। 
कूटनीति और छिपे स्वार्थ 
नहीं समझता। 
परंतु वह 
सब कुछ समझ सकता है 
जो वयस्क मन समझना नहीं चाहते। 

मुझे आशा है 
विश्वास है 
इन सूखे पेड़ों पर, 
फिर नए पत्ते पनपेंगे 
फिर से कोई नयी शाखा निकलेगी 


[भतीजी "धान्या" को समर्पित]

Wednesday, November 27, 2013

भांजे 'वेद शुभमय' के लिए

जीवन-पथ पर रहो अग्रसर 
सुख में, दुःख में, प्रति क्षण। 

विजय सदा ही रहे तुम्हारी 
कोई भी हो रण। 

निर्भीक रहोगे, यत्न करोगे 
ले लो तुम यह प्रण।  

जग में फैले यश तुम्हारा
भाग्य लिखो, करो विश्व- भ्रमण। 

हरण करो बाधाएं सबकी 
प्रेम जगत का करो ग्रहण।

Friday, August 3, 2012

तराना


खुदा के वास्ते, खुदा का वास्ता मत दो
बहुत होता है दर्द अब मुस्कुराने में.
मोहब्बत कर तो लें हम, तौबा नहीं इश्क से
दिखा दो एक भी पर्दानशीं बेगैरत जमाने में.
दिया जब दिल पे फिर से, उसी ग़म ने यूँ दस्तक
रुक ना पाए, चले आये हम मयखाने में.
वो कहते हैं हमें जीना नहीं आया
हो गयी खर्च जीस्त देखो आजमाने में.
अजी अब क्या गिला शिकवा करेगें हम
जो भी कहना था, कह दिया इस तराने में.

Monday, February 6, 2012

उन दोस्तों के नाम

ये जो दर्द है, इस दर्द की, दवा नहीं
वो जो लग जाए मुझे, ऐसी कोई, दुआ नहीं.

मेरी हर किसी से है दोस्ती
कितने तो मेरे यार हैं
जिन पर बड़ा गुरूर है
अजी जान भी निसार है.
मगर ये अफ़सोस कि, उन्हें भी यूँ, लगा नहीं.

ये तो हुस्न वाले हैं अरे
इन्हें क्या कोई जिये मरे
बहुत बदगुमान है ये कौम
जो जमीं पे है कब ठहरे.
इतनी सी बात समझ लें ये, ऐसा कभी, हुआ नहीं.

कुछ लोग मुझ जैसे भी हैं
जिन्हें खुद की कुछ खबर नहीं
जिन्हें ग़म ही रास आ गया
ख़ुशी की कुछ कदर नहीं.
किसी रोते को हँसा दिया, कुछ और तो, किया नहीं.

कुछ ज़िन्दगी के नाम

ज़िन्दगी तुझपे कई एहसान हैं मेरे
देख मैं जिंदा हूँ सौ ग़म खाके भी.
______________________________
जिस तरह मौत अमादा थी गले लगाने को
काश कि तुझे मेरी जुस्तुजू भी होती.
______________________________
या खुदा तूने दिया क्या इक ग़म के सिवा
चल तुझपे इक ज़िन्दगी उधार रही.

Sunday, February 5, 2012

आदतें

अपनी आदत से मजबूर हैं
दुनिया में सभी
किसी को दिल्लगी किसी को दिल
तुडवाने की बीमारी.

कोई ख़्वाब दिखाता कोई देखता है
कोई राज बताता है कोई दबाता है
कोई घर बनाता कोई रहता है
कोई सुनता है कोई गुनगुनाता है

कोई लूटता है कोई लुट जाता है
कोई छोड़ दे कोई अपनाता है
कोई रोये ही कोई मुस्कुराता है
कोई चीखे कोई फुसफुसाता है

कोई बेशर्म है कोई शरमाता है
करे सजदा कोई गलियाता है
कोई यादों में जिये कोई भूल जाता है

अपनी आदत से मजबूर हैं
दुनिया में सभी
किसी को मौत मिल जाए किसी को
ना आये जीना ही.

जब वी मेट

बात मुद्दत के मुस्कुराए थे वो
जैसे बिछड़ा हुआ मिला हो कोई.

लफ्ज़ दो प्यार से कहा भी नहीं
लब पे जैसे रखा गिला हो कोई.
होठों पे कुछ तो हरकत सी हुई
ज्यूँ गुलाब इक हिला हो कोई.

खुश तो वो यूँ हुए कि पूछो मत
झूमकर ज्यूँ घटा बरसा हो कोई.
हमने आँखों से इतनी पी ली
गोया सदियों से प्यासा हो कोई.

कर गए दूर से (ही) रुखसत वो हमे
न मिलेंगें फिर करके ये वादा.
छूने की रह गयी हसरत दिल में
क्या था जो माँगा (था) इत्ता भी ज्यादा.